खबरें

Russia-Ukraine War: दोनबास में जीत की ओर यूक्रेन, यूक्रेनी वायुसेना ने 24 घंटे में किए 29 ताबड़तोड़ हमले…

0
Russia-Ukraine

Russia-Ukraine War: रूस-यूक्रेन युध्‍द का प्रत्‍येक दिन अब रूस पर भारी पड़ रहा है। दोनबास प्रांत में यूक्रेन ने अपना पलटवार तेज कर दिया है। इस Russia-Ukraine War के बीच  ताबड़तोड  यूक्रेनी हमले से रूसी सेना के पांव उखड़ने लगे हैं। लाइमेन सिटी से रूसी सेना को खदेड़ने के बाद यूक्रेनी सेना ने अब दोनबास में पिछले 24 घंटों में 29 हमले किए हैं। इन हमलों में रूसी सेना के हथियार भंडार, एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइल सिस्‍टम के साथ ही कमांड पोस्‍ट तबाह किए गए। इसके साथ ही यूक्रेन ने दावा किया है कि रूस की तरफ से 4 मिसाइलें व 16 हवाई हमले किए गए हैं।

क्‍या कहा यूक्रेन के राष्‍ट्रपति ने ?

यूक्रेन के राष्‍ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्‍की ने  बताया कि, यूक्रेन के पूर्वी इलाके में दोनेस्‍क प्रांत के लाइमेन को रूसी कब्‍जे से मुक्‍त कराने के बाद दोनबास में रूसी सेना की पकड़ कमजोर हो चली है। यहां यूक्रेन जीत की ओर आगे बढ़ता नजर आ रहा है। उन्‍होंने कहा कि लाइमेन सबसे अहम रणनीतिक मोर्चा रहा  है। रूसी सेना लाइमैन सिटी जो की दोनबास का ही एक हिस्‍सा है को अपने बेस की तरह उपयोग कर रही थी। इस हिस्‍से को वापस अपने कब्‍जे में करने के बाद यूक्रेन को अब भरोसा हो गया  है कि वह पूरे दोनबास से रूस को भगा सकता है।

रूसी रक्षा मंत्रालय ने बताया

वहीं रूसी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्‍ता इगोर कोनाशेंकोव का कहना है कि रूसी सेना रणनीति के तहत लाइमेन से हट गई है। यहां तैनात जवानों को दूसरे मोर्चों पर भेजा गया है। जानकारों के मुताबिक, रूसी राष्‍ट्रपति को चेचेन कमांडर रमजान कादिरोव ने बिना देर किए हल्‍के परमाणु हथियार के इस्‍तेमाल की सलाह दी है।

दरासल, Russia-Ukraine युध्‍द में रूसी सेना का लाइमेन से हटना अपमानजनक माना जा रहा है। क्‍योंकि यह उस दोनेस्‍क प्रांत का हिस्‍सा है जिसका रूस में विलय हो चुका है। और रूसी लोग इसे रूस की जमीन पर यूक्रेनी कब्‍जे  की दृष्टि से देखते हैं। वहां से पीछे हटने को लेकर रूस का प्रशासन नाखुश है।

रूस पर 24 घंटे में किए 29 हमले

रविवार को सुबह यूक्रेनी सेना ने बताया कि उसके फाइटर जेटों ने रूसी ठिकानों पर बीते 24 घंटे में 29 हमले किए हैं। जिससे रूसी सेना के हथियार भंडार, एंटी मिसाइल सिस्‍टम और कमांड पोस्‍ट तबाह हो गए हैं। वहीं रूस ने बताया कि रविवार को खारकीव में रूसी सेना ने यूक्रेन के सात आयुध भंड़ारों को तबाह किया है । इन आयुध भंडारों में मिसाइल ओर तोपों को रखा गया था।

पोप की गुहार, इटली गैस आपूर्ति रोकी गई

पोप फ्रांसिस ने पुतिन से अपील की है कि वे यूक्रेन में जारी हिंसा को रोंकें। पुतिन की तरफ से परमाणु हथियारों के इस्‍तेमाल की चेतावनी के संदर्भ में पोप ने यूक्रेन को भी शांति प्रस्‍तावों पर गंभीरता से विचार करने की सलाह दी है।

इस Russia-Ukraine War युध्‍द के मुद्दों पर इटली की तीखी प्रतिक्रिया से खफा रूस ने इटली की गैस आपूर्ति रोक दी है। इसके अलावा रूसी  विदेश मंत्रालय द्वारा रूस में इटली के राजदूत सेर्गे राजोव को भी तलब किया है। गैस आपूर्ति रोकने के पीछे रूसी कंपनी गैजप्रॉम का दावा है कि ऑस्ट्रिया में हुए प्रशासनिक फेरबदल की वजह से यह हुआ है।

अमेरिकी रक्षा मंत्री ऑस्टिन लॉयड ने यूक्रेनी सेना की सराहना की है। उन्‍होंने कहा है कि लाइमेन पर कब्‍जे से यूक्रेन को पूर्वी मोर्चे पर बढ़त बनाने में मदद मिलेगी। क्‍योंकि अब यूक्रेन को यहां से रक्षात्‍मक बने रहने की जरूरत नहीं पड़ेगी।  बल्कि खुलकर रूसी ठिकानों पर निशाना साध सकेगा। आपको बता दें कि रूस ने मई में लाइमेन को अपने कब्‍जे में लिया था। पूर्वी मोर्चे पर दोनबास रसद के लिहाज से रणनीतिक तौर पर बेहद अहम जगह है। विशेषज्ञों के मुताबिक रूसी सेना का लाइमेंन से हटना रणनीतिक रूप से रूस की बड़ी हार है।

Kusum
I am a Hindi content writer.

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *