खबरें

Pravasi Bharatiya Divas: PM मोदी बोले- इंदौर शहर नहीं दौर है! यहां का स्‍वाद दुनियाभर में लोकप्रिय

0
Pravasi Bharatiya Divas

Pravasi Bharatiya Divas: मध्‍यप्रदेश के इंदौर में 3 दिवसीय ‘Pravasi Bharatiya Divas‘ चल रहा है, जिसमें आज प्रधानमंत्री मोदी ने भी शिरकत की है। इस तीन दिवसीय सम्‍मेलन में 70 देशों के 3500 से अधिक प्रवासी भारतीय हिस्‍सा लेने वाले हैं। इस दौरान म.प्र. के मुख्‍यमंत्री ने ट्वीट कर कहा कि, ”आजादी के अमृतकाल में मध्‍यप्रदेश में अमृत वर्षा हो रही है। मध्‍यप्रदेश और इंदौर में इस बात की होड़ लगी है कि प्रवासी भारतीय मेहमान होटल में नहीं हमारे घरों में ठहरेंगे। इन्‍दौर में एक अद्भुत उत्‍साह और उमंग का वातावरण है।” इस 17वें भारतीय प्रवासी दिवस के मंच से मोदी के साथ ही अन्‍य देशों के राष्‍ट्रपति ने अपना संबो‍धन दिया है।

क्‍या बोले PM मोदी ?

महालोक का हुआ भव्‍य विस्‍तार :

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 4 चार वर्षों के बाद मू स्‍वरूप में, पूरी भव्‍यता के साथ लौट रहा है। अपनों के आमने-सामने की मुलाकात का अलग ही आनंद होता है। यहां काफी कुछ है, जो यात्रा को अविस्‍मरणीय बनाएगा।  पास में ही महाकाल के महालोक का दिव्‍य तथा भव्‍य विस्‍तार हुआ है। उम्‍मीद है कि आप सब वहां जाकर भगवान महाकाल का आशीर्वाद जरूर लेंगे। आप सभी अद्भुत अनुभव का हिस्‍सा बनेंगे। उन्‍होंने इंदौर के बारे में बात करते हुए कहा कि, आज हम जिस शहर में हैं, वह भी अपने आपमें अद्भुत और अनंत है।

इंदौर शहर नहीं एक दौर है :

लोग कहते है कि इंदौर एक शहर है, मैं कहता हूं की इंदौर एक दौर है। यह वह दौर है, जो समय से आगे चलता है फिर भी विरासत को समेटे रहता है। उन्‍होंने कहा कि, इंदौर ने स्‍वच्‍छता के क्षेत्र में अपनी एक अलग पहचान साबित की है। इसके साथ ही इंदौर खाने-पीने के लिए देश में नहीं पूरी दुनिया में लाजवाब है। यहां पोहे का पैशन, शिकंजी, समोसे, कचौरी…जिसने भी इसे देखा, उसके मुंह का पानी नहीं रूका। इसलिए कुछ लोग इंदौर को स्‍वच्‍छता के साथ ही स्‍वाद की राजधानी भी कहते हैं।

बदलती दुनिया में प्रवासियों की अहम भूमिका :

प्रधानमत्री मोदी ने कहा, बदलती दुनिया में आपकी भूमिका अहम है। आपको भारत के बारे में और जानना होगा, पूरा विश्‍व इंतजार कर रहा है। आज भारत के पास नॉलेज सेंटर बनने के साथ स्किल कैपिटल बनने का अवसर है। हमारे युवाओं के पास स्किल भी है, वैल्‍यूज भी है और काम करने के लिए जरूरी जज्‍बा तथा इमानदारी भी है। उन्‍होंने कहा कि भारत की यह स्किल कैपिटल दुनिया के विकास का इंजन बन सकती है। भारत में उपस्थित युवाओं के साथ-साथ प्रवासी युवा भी हैं।

प्रवासी भारतीय बच्‍चों को भारत दिखाएं :

नई पीढ़ी के युवा, जो विदेश में जन्‍में है, वहीं पले-बढ़े हैं, हम उन्‍हें भी भारत को जानने और समझने के अवसर दे रहे हैं। भारत को लेकर उनका उत्‍साह बढ़ रहा है। उन्‍होंने कहा कि, हम युवाओं को न केवल देश के बारे में बताएं बल्कि उन्‍हें भारत दिखाए भी। मोदी ने कहा, ऐसे में विदेश में रहने वाले भारतीय मूल के लोगों की जिम्‍मेदारी बहुत बढ़ जाती है। मेरा आग्रह है कि कल्‍चरल और स्पिरिचुअल जानकारी के साथ-साथ भारत की प्रगति की अपडेटेड इफॉर्मेशन होनी चाहिए।

गुयाना के राष्‍ट्रपति क्‍या बोले ?

गुयाना के राष्‍ट्रपति मोहम्‍मद इरफान अली ने इंदौर के साथ ही प्रधानमंत्री का आभार व्‍यक्‍त किया। उन्‍होंने कहा कि पीएम मोदी का आभार, जो मुझे इस कार्यक्रम में आमंत्रित किया। आज का दिन भारत के लिए ऐतिहासिक दिन है। उन्‍होंने मोदी के कार्यक्रम ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्‍वास’ को भी सराहा है। । उन्‍होंने कहा कि भारत प्रतिभाओं को निखारने का नंबर वन देश है, हम प्रवासियों के लिए भारत द्वारा चलाए जा रहे कार्यक्रमों से काफी कुछ सीख रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि माहनदास करमचंद गांधी दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटे थे। आज से 107 साल पहले शारीरिक रूप से कमजोर दिखाई देने वाले, लेकिन मानसिक रूप से दृढ़ गांधी घर लौटे थे।

सूरीनाम के राष्‍ट्रपति क्‍या बोले ?

सूरीनाम के राष्‍ट्रपति चंद्रिकाप्रसाद संतोखी ने ‘प्रवासी भारतीय दिवस‘ कार्यक्रम के मंच से अपने संबोधन में कहा कि, जननी और मातृभू‍मि स्‍वर्ग से भी बढ़कर है। यह सम्‍मेलन हम दोनों देशों के आपसी सहयोग को बढ़ाने में सहायक साबित होगा। बोले- भारत ने क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर अपना प्रभुत्‍व बढ़ाया है, जिसकी मैं सराहना करता हूं। अमृतकाल में इस आयोजन की थीम सामयिक है, अमृतकाल नए युग की शुरूआत है। यह अमृतकाल हमारे पूर्वजों की सदियों पुरानी मेहनत का फल है।

राष्‍ट्रपति संतोखी मोदी सरकार की नीतियों की सराहना करते हुए कहा कि, आपके नेतृत्‍व में जी20 निश्चित तौर पर वन प्‍लानेट, वन फैमिली, वन फ्यूचर की दिशा में काम करेगा। वसुधैव कुटुंबकम के लिए कार्य करेगा। दुनिया एक परिवार है, मानव जीवन बहुमूल्‍य है।

 

 

Kusum
I am a Hindi content writer.

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *