खबरें

Niagara Fall Frozen: विश्व का सबसे ऊंचा वाटर फॉल ‘नियाग्रा’ पूरी तरह बर्फ में तब्‍दील, देखें वायरल तस्‍वीरें

0
Niagara Fall Frozen

Niagara Fall Frozen: अमेरिका में बर्फीले तूफान ‘Bomb Cyclone’ और शीत लहर के असर से विश्‍व का सबसे ऊँचा वाटर फॉल ‘नियाग्रा’ पूरी तरह से जम चुका है। इसमें बर्फ की चादर जमने के कारण यह ‘विंटर वंडरलैंड’ के रूप में सामने आया है। इंटरनेट पर ‘Niagara Fall Frozen‘ की कुछ तस्‍वीरें वायरल हो रही हैं। वहीं इंटरनेट पर इसका एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें आंशिक रूप से जमे नियाग्रा फॉल की तस्‍वीरें हैं। न्‍यूयॉर्क पोस्‍ट के मुताबिक, विश्‍व का सबसे प्रसिध्‍द ‘नियाग्रा वॉटर फॉल’ आंशिक रूप से जम गया है। वायरस हो रहे वीडियो में बहता पानी भी नजर आ रहा है, इससे साबित होता है कि यह झरना कभी भी पूरी तरह से नहीं जमता।

नियाग्रा फॉल पर बर्फीले तूफान का असर :

संयुक्‍त राष्‍ट्र अमेरिका के न्‍यूयॉर्क और कनाडा के आंटोरिया के समीपवर्ती इलाके में स्थित ‘नियाग्रा जल प्रताप‘ को निहारने बड़ी संख्‍या में पर्यटक पहुंच रहे हैं। आपको बता दें, कि अमेरिका में बर्फीले तूफान ‘बम चक्रवात’ ने कहर ढा रखा है। जिसका सबसे बुरा असर न्‍यूयॉर्क में ही देखने को मिल रहा है। यहां पर पारा शून्‍य से लेकर -45°C तक पहुंच जाता है, जिसके कारण नियाग्रा फॉल के पानी की चादर बर्फ में बदल गई है। कड़ाके की ठंड में भी पर्यटक इस मनमोहक नजारे को देखने पहुंच रहे हैं। और यही लोग वहां से तस्‍वीरें व वीडियो इंटरनेट पर साझा कर रहे हैं।

Niagara Fall Frozen

बर्फीले तूफान से अब तक 60 मौतें :

इस बम चक्रवात को अधिकारियों ने सदी का सबसे बड़ा बर्फीला तूफान करार दिया है। क्रिसमस सप्‍ताहांत में पश्चिमी न्‍यूयॉर्क में बर्फीले तूफान ने कहर ढा दिया है। इस तूफान की वजह से अमेरिका कई दिनों तक जकड़ा रहा देश के अनेक हिस्‍सों में बिजली कटौती, हवाई, रेल व सभी यातायात सुविधाएं बाधित रहीं। इस बर्फीले तूफान के कारण न्‍यूयॉर्क में अब तक 28 लोग मारे जा चुके हैं। इसके साथ ही तूफान के कारण हुए हादसों के कारण 60 से ज्‍यादा मौतें हो चुकी हैं।

बर्फबारी से 20 करोड लोग हुए प्रभावित :

अमेरिका में बर्फीले चक्रवाती तूफान ‘बम’ के चलते अब तक सैकड़ों मौतें हो चुकी हैं। इस बर्फीले तूफान ने यहां पर भारी तबाही मचाई है। क्रिसमस के दौरान आए बर्फीले तूफान से देश की करीब 60 प्रतिशत आबादी अर्थात् 20 करोड़ लोग बुरी तरह प्रभावित हैं। न्‍यूयॉर्क और मोटाना जैसे शहरों का तापमान 0°C से लेकर -45°C तक पहुंच जाता है। अमेरिका के साथ दुनिया में कई जगह बर्फीली हवाओं ने जन-जीवन पूरी तरह से अस्‍त-व्‍यस्‍त कर दिया है।

मीडिया की मानें तो, ‘नियाग्रा वाटर फॉल’ से हर सेकण्‍ड 3160 टन पानी का प्रवाह होता है। इससे पहले साल 2013 में झरने का उड़ता पानी भी बर्फ में तब्‍दील हो जा रहा था। तब वहां का तापमान शून्‍य से 12°C नीचे चला गया था।

 

Kusum
I am a Hindi content writer.

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *