स्वास्थ्य

Health Tips: पत्‍तागोभी ऑंखों के लिए बेहद फायदेमंद, इससे जुड़े अन्‍य तथ्‍य भी जानें

0
पत्‍तागोभी

 

आहार एवं पोषण, नियमित सब्जियों के सेवन की सलाह विशेषज्ञ अक्‍सर ही हमें देते हैं। क्‍योंकि हरी सब्जियां कई तरह के पोषक तत्‍वों, फाइवर और यौगिकों से भरपूर होती हैं। जो कई बीमारियों से हमारा बचाव करते हैं। और इससे हमारा इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत होता है। प्राकृतिक रूप से प्राप्‍त भोज्‍य पदार्थ हमारे शरीर एवं मस्तिष्‍क के लिए अमृततुल्‍य है। जिसमें से पत्‍तागोभी भी औषधीय गुणों से भरपूर होती है, जिसके सेवन से कई फायदे होते हैं। इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट एवं एंटी इंफ्लेमेटरी के गुण पाए जाते हैं, जो ऑंखों की रोशनी, कैंसर एवं अल्‍सर में बहुत लाभकारी होता है। आज  हम पत्‍तागोभी के अद्भुत फायदे, नुकसान और इसके  बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी से रूबरू करवाऐगें।

पत्‍तागोभी के फायदे:

इस लेख में पत्‍तागोभी से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित हैं। लेकिन इस बात का खास ध्‍यान रखें की गंभीर स्थिति में पत्‍ता गोभी का सेवन डॉक्‍टर्स से परामर्श लेकर ही करें।  सामान्‍यत: स्‍वस्थ्‍य रहने एवं मामूली शारीरिक समस्‍याओं को कम करने में पत्‍तागोभी कैसे सहायक है। नीचे दिए गए लेख में पढ़ें….

ऑंखों की रोशनी बढ़ाने में सहायक

एक मेडिकल रिसर्च के अनुसार, पत्‍तागोभी में ल्‍यूटिन एवं जेक्‍सैंथिन पाया जाता है। जो आंखों की रौशनी को बढ़ाने में सहायक हैं। इसके सेवन से ऑंखों की रौशनी से संबंधित सभी प्रकार की समस्‍याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। इसीलिए ऑंखों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए पत्‍तागोभी का सेवन बहुत आवश्‍यक है।

पत्‍तागोभी कैंसर और अल्‍सर में असरदार

बंदगोभी अथवा पत्‍तागोभी कैंसर से बचाव करने में भी शामिल है। पत्‍ता गोभी में ब्रैसिनिन तत्‍व पाया जाता है, जो कैंसर के खिलाफ कीमोप्रिवेंटिव गतिविधि प्रदर्शित कर सकता है। यह ट्यूमर कैंसर के बचाव में भी मददगार साबित हो सकता है।

बंद गोभी में एंटीपेप्टिक अल्‍सर गुण होते हैं, जो अल्‍सर के खिलाफ प्रभावी रूप सहायक हो सकते हैं। पेट के अल्‍सर और उसके लक्षण से संबंधित समस्‍याओं से राहत पाने के लिए पत्‍तागोभी के जूस का सेवन किया जा सकता है। यह गैस्ट्रिटिस, पेप्टिक और डुओडेनल तीनों प्रकार के अल्‍सर में फायदा पहुंचा सकती है।

हृदय स्‍वास्‍थ्‍य में सहायक

बंदगोभी में मौजूद एंथोसायनिन पॉलीफंनोल, हृदय समस्‍याओं से छुटकारा दिलाकर उसे स्‍वस्‍थ्‍य बनाने में मददगार साबित हो सकता है। यह फ्री-रेडिकल डैमेज के जोखिम को कम करके हृदय को स्‍वस्‍थ्‍य रख सकता है। इसके साथ ही इसमें मौजूद कैरोटीनॉयड पिगमेंट भी हृदय को स्‍वस्‍थ्‍य रखने और हृदय घात के खतरे से बचाने में मदद कर सकता है। ऐसा माना जाता है कि, जिन सब्जियों में एंथोसायनिन पाया जाता है उनका सेवन हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहद फायदेमंद हो सकता है। एंथोसायनिन एक प्‍लांट पिग्‍मेंट है, लाल पत्‍तागोभी का गहरा पर्पल कलर इसी के कारण होता है।

इसके साथ ही विटामिन-सी से भरपूर पत्‍तागोभी त्‍वचा के लिए, बालों के लिए, कोलेस्‍ट्रॉल के स्तर में कमी, रक्‍तचाप को कम करने, मधुमेह रोग से राहत दिलाने,  इंफ्लेमेशन(सूजन) कम करने, दर्द से राहत दिलाने, वजन घटाने, रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने, पाचन और कब्‍ज को दूर करने में मददगार है।

इससे होने वाले नुकसान:

बंदगोभी में रैफिनोस पाया जाता है, जिसमें चीनी की पर्याप्‍त मात्रा पाई जाती है। चीनी जटिल कार्बोहाइड्रेट का एक प्रकार है।  यह ऑंखों से गुजरता हुआ पेट में समस्‍या कर सकता है। मधुमेह रोगियों के लिए यह लाभकारी भी हो सकता है और नुकसानदेह भी । इसीलिए मधुमेह रोगियो को डॉक्‍टर की सलाह लेकर ही इसका सेवन करना चाहिए।  थॉयराइड मरीजों को भी डॉक्‍टर की सलाह में ही इसका सेवन करना चाहिए। पत्‍ता गोभी के अधिक सेवन से गले में एलर्जी की शिकायत हो सकती है। इसलिए इसका सेवन पर्याप्‍त मात्रा में ही करें।

 

 

 

Kusum
I am a Hindi content writer.

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published.