blog

Fearless Nadia: एक ऑस्‍ट्रेलियन लड़की की सेल्‍स-गर्ल से बॉलीवुड में ‘हंटरवाली’ बनने तक की कहानी! पिता की मौत…

0
Fearless Nadia

Fearless Nadia: ऑस्‍ट्रेलिया में जन्‍मी नाडिया, एक ब्रिटिश आर्मी में एक आलंटियर की बेटी थीं। प्रथम विश्‍व युध्‍द में अपने पिता को खोने के बाद से ही उनके जीवन में संघर्ष श़रू हो गया। एक सेल्‍समैन के तौर पर काम करने वालीं नाडिया ने बॉलीवुड फिल्‍मों में वो कर दिखाया, जो शायद ही कोई कर पाता है। अब जहां फिल्‍मों में अभिनेत्रियां खुद एक्‍शन करती नजर आती हैं, तो एक वक्‍त ऐसा था जब वह इससे दूर भागती थीं। वहीं, 1930-40 के दौर में मात्र एक अभिनेत्री ऐसी थीं, जो कभी एक्‍शन सीन से पीछे नहीं हटती थी। खरतनाक स्‍टंट और गजब के कारनामों की वजह से उन्‍हें ‘Fearless Nadia‘ कहा जाने लगा।

कौन हैं ‘Fearless Nadia’ ?

बॉलीवुड फिल्‍मों में अपने स्‍टंट के दम पर सबको हैरान कर देने वाली नाडिया का असली नाम मैरी एन इवांस था। ऑस्‍ट्रलिया में 8 जनवरी 1908 को जन्‍मी नाडिया ने 1996 में अपने बर्थडे के एक दिन बाद यानि 9 जनवरी को इस दुनिया को अलविदा कर चली थीं। नाडिया के पिता स्‍कॉटिश थे, जोकि ब्रटिश आर्मी में वॉलेंटियर थे। वहीं उनकी मां ग्रीक थीं। नाडिया के जन्‍म के एक साल बाद ही उनके पिता का ट्रांसफर बॉम्‍बें में हो गया। तभी वह पहली बार भारत आंईं। इसके बाद ‘प्रथम विश्‍व युध्‍द’ में उनके पिता का निधन हो गया। जिसके बाद से ही मैरी की कठिन परीक्षा शुरू हो गई।

पाकिस्‍तान में सीखी घुडसवारी :

नाडिया ने पाकिस्‍तान के खैबर पख्‍तून में नाडिया ने बंदूक चलाना, मछली पकड़ना, शिकार करना और घुड़सवारी करना सीखा। उन्‍हें उस समय अंदाजा भी नहीं था कि आगे जाकर वह क्‍या करने वाली हैं। वह अपने शरीर को मजबूत बनाने के लिए काफी मेहनत करती थी और बाद में उनकी यही मेहनत रंग लाई। पिता के ट्रांसफर के बाद उन्‍हें मुंबई वापस आना पड़ा।

Fearless Nadia

यहां आकर वे आर्मी एंड नेवी स्‍टोर में सेल्‍स गर्ल का काम करने लगीं। नाडिया बचपन से ही सिंगर बनना चाहती थीं, लेकिन किस्‍मत को कुछ और ही मंजूर था। उन्‍होंने रशियन डांसर मैडम अस्‍त्रोवा का ग्रुप ज्‍वाइन कर, भारत के शाही परिवारों की महफिलों में अपना फरफॉर्म करने लगीं।

कैसे बनी हंटरवाली ?

इसके बाद लाहौर में ए‍क सिनेमाहॉल के मालिक की नजर नाडिया पर पड़ी और उन्‍होंने वाडिया ब्रदर्स को नाडिया के बारे में बताया। वाडिया ब्रदर्स ने जब नाडिया का वेस्‍टर्न चेहरा देखा तो वे हैरान रह गए। इसके बाद उन्‍होंने शुरूआत में कुछ छोटे-छोटे रोल दिए, जिसके लिए उन्‍हें प्रति माह 60 रूपये की फीस दी जाती थी।  इसके बाद ‘हंटरवाली’ फिल्‍म आई और नाडिया को स्‍टार बना दिया। फिल्‍म में नाडिया को देख हर तरफ हलचल मच गई। उन्‍हें घुड़सवारी करते, झूमर से झूलते देख, आग से खेलते देख, मर्दों से लड़ते देख सब हैरान रह गए। उनकी निडरता एक ट्रेडमार्क बनी और वह नाडिया से ‘फियरलेस नाडिया‘ बन गईं।

 

Kusum
I am a Hindi content writer.

Comments

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *